शांति के क्षेत्र में युवाओं का एक प्रयास

संस्था सृजन फाउंडेशन, झारखण्ड के 9 जिलों में बच्चे,किशोरी एवं महिलाओं के हिंसा मुक्त जीवन ,सुरक्षा एवं अधिकार के लिए कार्य करती है|  संस्था के साथी रोशन कुमार को अमेरिकन सेंटर कोलकाता से यूथ फॉर पिस की प्रशिक्षण प्राप्त किया और उस सिख के अनुसार समुदाय स्तर में बैठक व प्रशिक्षण के माध्यम से जानकारी दिया तो इसका परिणाम यह हुआ कि समुदाय के युवाओं ने अपने क्षेत्र में एक सुरक्षित एवं शांति के लिए स्वतः अंजाम दे रहें और हर वो रणनीति बना रहे हैं जिनसे समुदाय को जागरूक दे सके| रामगढ जिले के एक छोटे से गाँव हेंसागढ़ा के युवा लड़कियों के द्वारा नुक्कड़ नाटक ,रैली,संवाद के माध्यम से  जागरूकता अभियान चलाया गया जिसका उद्देश्य समाज में लड़कियों के साथ हो रहे गैरबराबरी को ख़त्म करना एवं उनके साथ हो रहे हिंसात्मक व्यवहार घर या बाहर में जो किया जाता है उन्हें खत्म करने का एक प्रयास एवं लोंगो को जागरूक करना | इस अभियान में युवा लड़कियों के द्वारा जगह जगह रैली एवं नुक्कड़ नाटक के माध्यम से लोंगो को जागरूक करने का प्रयास किया गया ताकि लडकियों को एक सुरक्षित माहौल और शांति का प्राप्त हो सके |

निष्कर्ष यह निकलकर आ रहा है कि उस गांव में बाल विवाह ,महिला शोषण ,जेंडर भेदभाव आदि कम हुआ है

Srijan Foundation works for the safety and rights of women and children in 9 districts of Jharkhand. One of the members, Roshan Kumar got trained in American Centre for Youth for Peace and implemented in the community level through training and meetings, among the youth. This had led to the youth taking up the responsibility of creating awareness among the village folk and working on safety and peace. Nukkad Nataks, rallies and discussions were held in Hensagada village in Ramgarh district, against domestic violence and gender discrimination. The rallies were conducted by women to sensitize people regarding women’s safety and the need for peace both inside and outside the house.

This movement has resulted in lower rates of child marriage, gender discrimination and, violence against women in that village.

Edit “Voice of the Youth for Peace”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *